मालेगांव विस्फोट: सीएम योगी बोले- हिंदुओं पर दर्ज हुए झूठे केस, मांफी मांगे कांग्रेस


मालेगांव विस्फोट: सीएम योगी बोले- हिंदुओं पर दर्ज हुए झूठे केस, मांफी मांगे कांग्रेस

योगी ने कहा कि पहले जब सत्ता में थे तब आतंकियों को प्रेरित करते थे और आज जब सत्ता से बाहर हैं तो जनता के हित के हर कार्यों का विरोध करते हैं। आतंकवादियों को प्रेरित और पोषित करने वाली ये कांग्रेस देश के साथ कैसे खिलवाड़ कर रही थी, ये किसी से छिपा नहीं है।

वर्ष 2008 के मालेगांव विस्फोट मामले में एक गवाह के दिए बयान के बाद भाजपा कांग्रेस पर हमलावर हो गई है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कांग्रेस ने देश में सर्वाधिक समय तक शासन किया। उस समय ये कैसे भाजपा कार्यकर्ता, नेता, आरएसएस नेता, हिंदू नेताओं को झूठे मुकदमें में फंसाने का काम करते थे। आपने मालेगांव विस्फोट में देखा होगा। कांग्रेस की शरारत देश के ख़िलाफ़ अपराध है और कांग्रेस को मांफी मांगनी चाहिए। योगी ने कहा कि कांग्रेस पहले जब सत्ता में थी तो आतंकियों को प्रेरित और प्रोत्साहित करती थी और ये हिंदू संगठनों पर झूठे मुकदमें दर्ज़ करते थे और आज जब सत्ता से बाहर है तो हर उस कार्य का विरोध करते हैं जो कार्य जनता के हित के लिए हो।

योगी ने कहा कि पहले जब सत्ता में थे तब आतंकियों को प्रेरित करते थे और आज जब सत्ता से बाहर हैं तो जनता के हित के हर कार्यों का विरोध करते हैं। आतंकवादियों को प्रेरित और पोषित करने वाली ये कांग्रेस देश के साथ कैसे खिलवाड़ कर रही थी, ये किसी से छिपा नहीं है। दरअसल योगी की यह प्रतिक्रिया 2008 के मालेगांव विस्फोट मामले के एक गवाह के मुकर जाने और मुंबई की एक अदालत में यह गवाही देने के बाद आई है कि तत्कालीन वरिष्ठ एटीएस अधिकारी परम बीर सिंह और एक अन्य अधिकारी ने उन्हें उत्तर प्रदेश के मौजूदा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और इंद्रेश कुमार सहित आरएसएस के चार अन्य नेताओं का नाम लेने की धमकी दी थी।
योगी ने सपा पर तंज कसते हुए कहा कि पिछले साढ़े चार सालों के अंदर हमने प्रदेश में 45 लाख ग़रीबों को एक-एक आवास दिया है। समाजवादी पार्टी की सरकार में एक भी ग़रीब को आवास नहीं मिला था। आवास का पैसा कहां चला गया। अब दीवारों से वहीं पैसा निकल रहा है। उन्होने कहा कि अच्छी सरकार आती है तो अच्छी योजनाएं भी आती हैं। बुरी सरकार आएगी तो यही अन्न सपा के, बसपा के या कांग्रेस के नेताओं के घरों में चला जाता और उनकी तिजोरी भरती। कोरोना में उत्तर प्रदेश के प्रबंधन को पूरे देश ने और पूरी दुनिया ने स्वीकार किया है।