ब्रिटेन में रहने वाले पाकिस्तानी मूल के विद्वान बैरिस्टर खालिद उमेर द्वारा फेसबुक पर लिखी गई एक पोस्ट का हिन्दी-अनुवाद :

 क्या कोई और भी है जो विचारों को इतनी स्पष्टता से देख रहा है?

नरेन्द्र मोदी और भाजपा पर यह आरोप लगाया जाता है, कि वह भारत को एक हिन्दू राष्ट्र बनाना चाहते हैं! अगर ऐसा है भी, तो मैं पूछता हूँ कि इसमें विरोध ही क्या है? भारत के हिन्दू राष्ट्र होने के पक्ष में मैं यह तर्क प्रस्तुत करता हूँ:

विश्व भर में फैले हिन्दुओं की पितृभूमि और पुण्यभूमि होने, उनमें से ९५% की शरणस्थली होने, और कम से कम ५,००० वर्ष पुरानी सनातन हिन्दू सभ्यता का केन्द्र होने के कारण, भारतवर्ष को किसी परिचय की आवश्यकता नहीं है!

भारत को अपनी पहचान एक हिन्दू राष्ट्र के रूप में स्थापित करने में लज्जित होने की कोई आवश्यकता नहीं है!

हिन्दू धर्म, जनसंख्या की दृष्टि से, ईसाई और इस्लाम धर्मों के बाद विश्व का तीसरा सबसे बड़ा धर्म है! पर इसका भौगोलिक विस्तार अन्य धर्मों की तुलना में सीमित रहा है!

विश्व की ९७% हिन्दू जनसंख्या केवल तीन हिन्दू-बहुल देशों - भारत, मॉरिशस और नेपाल - में ही रहती है, और इस प्रकार अन्य प्रसारवादी धर्मों की अपेक्षा, हिन्दू धर्म भारत और उससे भौगोलिक और सांस्कृतिक रूप से जुड़े क्षेत्रों में केन्द्रीभूत है!

विश्व के ९५% हिन्दू भारत में रहते हैं, जबकि इस्लाम की जन्मभूमि सऊदी अरब में विश्व के केवल १.६% मुसलमान रहते हैं!

विश्व के वाममार्गी और तथाकथित उदारवादी चिन्तकों को विश्व के विशाल मुस्लिम बहुमत वाले ५३ देशों, जिनमें से २७ का शासकीय धर्म ही इस्लाम है, १०० से अधिक विशाल ईसाई-बहुमत वाले देशों के बीच ब्रिटेन, ग्रीस, आइसलैण्ड, नॉर्वे, हंगरी, डेनमार्क सरीखे ईसाई धर्म को अपना शासकीय धर्म घोषित कर चुके देशों, बौद्ध मत को शासकीय धर्म मानने वाले ६ देशों और यहूदी देश इज़राइल से कोई समस्या नहीं है, पर भारत के एक हिन्दू राष्ट्र होने की कल्पना मात्र से विक्षिप्त हो जाने वाले बुद्धिजीवी इस बात के लिए कोई तर्क नहीं दे सकते कि भारत को हिन्दू राष्ट्र क्यों नहीं होना चाहिए!

भारत के हिन्दू राष्ट्र हो जाने से उसका पंथनिरपेक्ष चरित्र खतरे में आ जाएगा - यह मानने का कोई कारण नहीं है!

पारसी, जैन, सिख, इस्लाम और जरसुस्थ - सभी धर्मों के मानने वाले भारत में फले-फूले हैं - यही इस बात को सिद्ध करने के लिए पर्याप्त है, कि हिन्दू अन्य मतों के प्रति असहिष्णु नहीं हैं!

भारत में अन्य धर्मों के पूजा-स्थलों में हिन्दू भी पूजा करते देखे जा सकते हैं!

हिन्दू धर्म में धर्मान्तरण के लिए कोई स्थान है ही नहीं! 

अनेक मुस्लिम और ईसाई देश हैं, जो समय-समय पर अन्य देशों - जैसे म्याँमार, फिलिस्तीन, यमन आदि में इन धर्मों के मानने वालों के धार्मिक उत्पीड़न पर मानवाधिकार-हनन का शोर मचाते रहते हैं, पर पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान में हिन्दुओं और सिखों पर हुए अमानवीय अत्याचारों पर मुँह खोलना उन्होंने कभी ज़रूरी नहीं समझा! क्या आज कोई याद भी करता है कि १९७१ में पाकिस्तान की सेना ने बांग्लादेश के निरीह हिन्दुओं का किस पैमाने पर नरसंहार किया? 

वन्धमा (गन्दरबल) सहित काश्मीर के नरसंहार, पाकिस्तान से हिन्दुओं के सर्वांगी उन्मूलन और आरब (उदाहरण के लिए मस्कत) में ऐतिहासिक हिन्दू मन्दिरों और हिन्दू धर्म को विनष्ट किये जाने की आज कोई बातें भी करना चाहता है?

भारतीय शासन-तन्त्र की धर्मनिरपेक्षता का ढिंढोरा पीटने वाली नीतियाँ सीधे-सीधे धर्मनिरपेक्षता के मूल सिद्धान्तों के विरुद्ध, और विशाल हिन्दू बहुमत के प्रति भेदभावकारी रही हैं!

क्या आपने भारत में दी जाने वाली हज-सब्सिडी का नाम सुना है? सन २००० से १५ लाख भारतीय मुसलमान इसका लाभ उठा चुके हैं!

भारतीय सर्वोच्च न्यायालय को इसमें हस्तक्षेप करके भारत सरकार को निर्देश देना पड़ा, कि वह अगले दस वर्षों में इस सब्सिडी को क्रमशः समाप्त करे!

विश्व का अन्य कोई धर्मनिरपेक्ष देश किसी विशेष मत के अनुयायियों के धार्मिक पर्यटन के लिए इस प्रकार की छूट देता है? 

२००८ में यह छूट प्रति मुस्लिम तीर्थयात्री १,००० अमरीकी डॉलर थी!

जब भारत अपने देश के मुसलमानों की उनके मजहबी कर्तव्यों के निर्वहन में सहायता कर रहा था, तब सऊदी अरब, जहाँ हिन्दू-प्रतीक मूर्तिपूजा के नाम पर अवैधानिक, निन्दनीय एवम् दण्डनीय हैं, भारत सहित पूरे विश्व में वहाबी अतिवाद का निर्यात कर रहा था!

हिन्दुओं को सऊदी अरब में अपना मन्दिर बनाने की अनुमती नहीं है, पर हिन्दू करदाताओं के पैसों से भारत सरकार मजहबी तीर्थयात्राओं के द्वारा सऊदी अरब के अर्थतन्त्र को मजबूती प्रदान करने में लगी थी!