अयोध्या में सीएम योगी आदित्यनाथ की महत्‍वपूर्ण घोषणा, प्रदेशवास‍ियों को होली तक मिलेगा मुफ्त राशन
मुख्यमंत्री ने श्रीराम के स्वरूप का अभिषेक कर पंचम दीपोत्सव का किया उद्घाटन।

 



अयोध्या। कोरोना संकट का सामना कर रहे 15 करोड़ प्रदेशवासियों को होली तक मुफ्त राशन मिलेगा। यह सुविधा पाने वाले अंत्योदय कार्डधारकों को प्रति माह 35 किलो ग्राम चावल, गेहूं के साथ दाल, खाद्य तेल, नमक और चीनी भी प्रदान की जाएगी। जबकि बीपीएल कार्ड धारकों को प्रति यूनिट पांच किलो ग्राम चावल, गेहूं के साथ दाल, खाद्य तेल और नमक प्रदान किया जाएगा। यह घोषणा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने की। वे सरयू तट स्थित रामकथापार्क में पंचम दीपोत्सव का उद्घाटन करने के बाद विचार व्यक्त कर रहे थे। उन्होंने याद दिलाया कि कोरोना संकट को ध्यान में रख कर प्रधानमंत्री अन्न योजना के तहत गरीबों को मुफ्त राशन वितरण नवंबर तक प्रस्तावित था, कि‍ंतु उत्तर प्रदेश में यह योजना अगले वर्ष होली तक चलेगी।

अपने उद्बोधन में उन्होंने 31 वर्ष पूर्व की घटना का उल्लेख भी किया। बताया कि 30 अक्टूबर और दो नवंबर 1990 की कारसेवा में रामभक्तों पर बर्बर लाठीचार्ज किया गया था और गोलियां चलाई गई थीं। तब जय श्रीराम बोलना पाप होता था, क‍‍िंतु उन लोगों को आज केंद्र एवं प्रदेश में सरकार बनाने वाली रामभक्तों के मत की ताकत का एहसास हो गया है और वे अब रामभक्तों के सामने झुक रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा, यही लोकतंत्र की ताकत है और सभी को साथ रखने तथा सभी का मंगल श्रीराम की विरासत है और श्रीराम सभी को दैहिक, दैविक एवं भौतिक तापों से मुक्त कर रामराज्य की आधारशिला रखते हैं। यह विरासत आज आगे बढ़ रही है।

मुख्यमंत्री ने बताया कि गत साढ़े सात साल के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में हर जरूरतमंद को आवास, शौचालय, बिजली, रसोई गैस और स्वास्थ्य बीमा की सुविधा से कवर किया जा रहा है। उन्होंने प्रधानमंत्री की उपलब्धियों का उदाहरण देते हुए कहा, विगत डेढ़ वर्ष से भी अधिक समय से दुनिया कोरोना महामारी से जूझ रही है। भारत में तमाम अवरोधों और नकारात्मक ताकतों के बावजूद कोरोना का फ्री टेस्ट, फ्री उपचार, फ्री राशन, फ्री वैक्सीन की सुविधा उपलब्ध कराई गई और यह स्वयं में राम राज्य की कल्पना को साकार करने जैसा है। दीपोत्सव के प्रथम संस्करण्ण के साथ रामनगरी के बदलाव का उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, अयोध्या अब एक नई सांस्कृतिक नगरी के रूप में दुनिया के सामने छा जाने को तैयार हैै। कोई भी ताकत 2023 तक भगवान श्रीराम के मंदिर निर्माण को नहीं रोक सकती।

मुख्यमंत्री ने बताया कि राम मंदिर और रामनगरी के नवनिर्माण के साथ पूरे प्रदेश में पांच सौ तीर्थों एवं धार्मिक-सांस्कृतिक स्थलों का कायाकल्प हो रहा है। इनमें से तीन सौ का कार्य पूर्ण कर लिया गया है और अगले दो महीने में बाकी दो सौ स्थलों के कायाकल्प का निर्माण पूर्ण कर लिया जाएगा। इसी के साथ ही उन्होंने विरोधियों पर तंज भी कसा। कहा, पहले यह पैसा कब्रिस्तानों में लगता था। जिन्हें कब्रिस्तान प्यारा था, वे प्रदेश का पैसा वहां लगाते थे और जिन्हें धर्म-संस्कृति से प्यार है, वे प्रदेश का पैसा अयोध्या और काशी जैसे तीर्थ स्थलों के विकास में लगा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने दीपोत्सव का औचित्य स्पष्ट करते हुए कहा, अयोध्या केवल त्रेता युग की साक्षी नहीं, अपितु त्रेता युग के विकास की भी साक्षी बन रही है। इससे पूर्व केंद्रीय पर्यटन मंत्री जी किशन रेड्डी ने भी विचार व्यक्त किये। उन्होंने कहा, अयोध्या दुनिया की सबसे बड़ी पर्यटन नगरी बनने की ओर अग्रसर है। जहां अभी तक अयोध्या आने वाले पर्यटकों की संख्या 70 लाख है, वहीं अगले 10 वर्षों में अयोध्या आने वाले पर्यटकों की संख्या सालाना पांच करोड़ होगी