हिंदी भवन में कवि सम्मेलन हुआ।

जैसा सोचा था, स्व बीएन तिवारी जी की याद में हिंदी भवन में उससे भी अच्छा कवि सम्मेलन हुआ। तिवारी जी के पुत्र डीडी न्यूज़ के कॉपी एडिटर पंकज तिवारी ने जितने मन के साथ इस आयोजन किया, उतने ही मन के साथ इसमें तमाम लोग शामिल हुए। सब कुछ दिल से था। कोई औपचारिकता दूर-दूर तक नहीं थी। पहले चरण में स्व बीएन तिवारी जी को भारतीय मजदूर संघ और भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने श्रद्धा सुमन अर्पित किए। इनमें प्रमुख रहे कार्यक्रम अध्यक्ष पूर्व मंत्री बालेश्वर त्यागी, दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री बलदेव राज शर्मा, भाजपा प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य पृथ्वी सिंह कसाना, भारतीय मजदूर संघ के राष्ट्रीय मंत्री गिरीश आर्य, प्रदेश संगठन मंत्री रामनिवास, विभाग प्रमुख जगदीश वाजपेई, प्रांत प्रमुख शंकरलाल, प्रदेश उपाध्यक्ष सुरेंद्र पाल प्रजापति, जिलाध्यक्ष नितिन रोहतगी और चंद्रभानु मिश्र, विजेंद्र कुमार व राधेश्याम पांडे। सरे चरण में शानदार कवि सम्मेलन हुआ। विजेंद्र सिंह परवाज़, अंदाज़ देहलवी, मैं यानि राज कौशिक, मासूम गाजियाबादी, शरफ नानपारवी, डॉ जयप्रकाश मिश्र, ऋचा सूद और धीर सुप्रिया श्रीवास्तव की तरफ से काव्य पाठ हुआ। दोनों सत्रो , संचालन मैंने किया। दोस्तो, कवि सम्मेलन का आयोजन किसी भी व्यक्ति या संस्था की तरफ से हो, वो प्रशंसनीय ही है लेकिन अपने पिता की याद में जिस तरह भाई पंकज तिवारी ने इस कार्य को किया है, उसकी जितनी प्रशंसा की जाए,वो कम है। उन्होंने अपने पुत्र धर्म को बहुत ही सुंदरता के साथ निभाया है। पंकज के परिवार के सभी सदस्यों और अमेरिका में रह कर सहयोग करने वाले उनके भाई मनीष को इस शानदार आयोजन के लिए बहुत-बहुत बधाई