लाल निशान पर खुला शेयर बाजार, सेंसेक्स 225 अंक लुढ़का;निफ्टी भी नीचे

लाल निशान पर खुला शेयर बाजार, सेंसेक्स 225 अंक लुढ़का;निफ्टी भी नीचे

सेंसेक्स में सबसे अधिक करीब दो प्रतिशत की गिरावट बजाज फाइनेंस में हुई। एचडीएफसी बैंक, इंफोसिस, महिंद्रा एंड महिंद्रा, एशियन पेंट्स, भारती एयरटेल, डॉ रेड्डीज, मारुति और एचडीएफसी के शेयर भी शुरुआती कारोबार के दौरान गिरावट में रहे।

मुंबई। विदेशी फंड के लगातार बहिर्वाह और एशियाई बाजारों में मिलेजुले रुख के बीच एचडीएफसी ट्विन्स, इंफोसिस और मारुति जैसी कंपनियों के शेयर में गिरावट से शुरूआती कारोबार में सोमवार को सेंसेक्स 225 अंक लुढ़क गया। इस दौरान 30 शेयरों पर आधारित सूचकांक 225.04 अंक या 0.38 प्रतिशत की गिरावट लेकर 58,419.78 पर कारोबार कर रहा था, वहीं निफ्टी 69.55 अंक या 0.40 फीसदी की गिरावट के साथ 17,446.75 पर आ गया। सेंसेक्स में सबसे अधिक करीब दो प्रतिशत की गिरावट बजाज फाइनेंस में हुई। एचडीएफसी बैंक, इंफोसिस, महिंद्रा एंड महिंद्रा, एशियन पेंट्स, भारती एयरटेल, डॉ रेड्डीज, मारुति और एचडीएफसी के शेयर भी शुरुआती कारोबार के दौरान गिरावट में रहे। वही दूसरी तरफ टाटा स्टील, पावरग्रिड, एसबीआई और रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयरों में वृद्धि देखी गई।

इससे पिछले सत्र में सेंसेक्स 143.20 अंक यानी 0.24 फीसदी की गिरावट लेकर 58,644.82 अंक पर बंद हुआ था। इसी तरह एनएसई का निफ्टी 43.90 अंक या 0.25 प्रतिशत कमजोर होकर 17,516.30 अंक के स्तर पर बंद हुआ। एशिया के अन्य बाजारों में हांगकांग, टोक्यो और सियोल मध्य सत्र के दौरान घाटे में कारोबार कर रहे थे, जबकि शंघाई लाभ में कारोबार कर रहा था। अमेरिकी शेयर बाजार भी शुक्रवार को मिले-जुले रुख के साथ बंद हुए। महान गायिका लता मंगेशकर के निधन पर शोक व्यक्त करने के लिए महाराष्ट्र सरकार द्वारा सार्वजनिक अवकाश घोषित करने के बाद आरबीआई ने कहा कि सरकारी प्रतिभूतियां, विदेशी मुद्रा और बाजार सोमवार को बंद रहेंगे। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने रविवार को रेट-सेटिंग मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की बैठक को एक दिन के लिए पुनर्निर्धारित करने की घोषणा की। इस बीच अंतरराष्ट्रीय तेल मानक ब्रेंट क्रूड 0.02 प्रतिशत फिसलकर 93.25 डॉलर प्रति बैरल हो गया। विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) ने फरवरी के पहले चार कारोबारी सत्रों में भारतीय बाजारों से 6,834 करोड़ रुपये निकाले। वही शेयर बाजार के अस्थाई आंकड़ों के मुताबिक, विदेशी संस्थागत निवेशक (एफआईआई) पूंजी बाजार में शुद्ध बिकवाल रहे। उन्होंने शुक्रवार को 2,267.86 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर बेचे।