ISI की विस्फोटक प्लानिंग वाया सिख फॉर जस्टिस, दिल्ली-मुंबई को दहलाने की साजिश पर बड़ा खुलासा


ISI की विस्फोटक प्लानिंग वाया सिख फॉर जस्टिस, दिल्ली-मुंबई को दहलाने की साजिश पर बड़ा खुलासा

आतंकी संगठन सिख फॉर जस्टिस के कंधे पर बंदूक रखकर पाकिस्तान भारत में दहशत फैलाने की योजना बनाई थी। पिछले दिनों लुधियाना कोर्ट में हुए ब्लास्ट के आरोपी जसविंदर सिंह मुल्तानी को जर्मनी में गिरफ्तार कर लिया गया है।

हिन्दुस्तान के खिलाफ पाकिस्तान की साजिश पर सबसे बड़ा खुलासा हुआ है। जर्मनी में आतंकी जसविंदर सिंह मुल्तानी की गिरफ्तारी से पाकिस्तान की पोल खुली है। हिन्दुस्तान की राजधानी दिल्ली को दहलाने के लिए पाकिस्तान के बनाए बड़े प्लान का खुलासा हुआ है। आतंकी संगठन सिख फॉर जस्टिस के कंधे पर बंदूक रखकर पाकिस्तान भारत में दहशत फैलाने की योजना बनाई थी। पिछले दिनों लुधियाना कोर्ट में हुए ब्लास्ट के आरोपी जसविंदर सिंह मुल्तानी को जर्मनी में गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोप है कि वह पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के इशारे पर काम कर रहा था और दिल्ली व मुंबई में आतंकी गतिविधियों की साजिश रच रहा था। जांच के दौरान प्रतिबंधित सिख संगठनों से संबंधित पाकिस्तान और जर्मनी में रहने वाले दो और संदिग्धों के नाम सामने आए। कयास लगाए जा रहे थे कि लाल किले पर बड़े पैमाने पर बम विस्फोट किया जाना था। 

कौन है मुल्तानी

45 वर्षीय सिख फॉर जस्टिस (एसएफजे) के एक प्रमुख सदस्य जसविंदर सिंह मुल्तानी पंजाब के होशियारपुर का रहने वाला है। कहा जाता है कि मुल्तानी और उनके दो भाई जर्मनी में एक स्टोर चलाते हैं। उसे एसएफजे के संस्थापक गुरपतवंत सिंह पन्नू का करीबी सहयोगी बताया जाता है और वह अलगाववादी गतिविधियों में शामिल है। मुल्तानी खालिस्तान समर्थक कट्टरपंथी है।

सुरक्षा एजेंसियों की रडार पर था 

मुल्तानी पाकिस्तान स्थित गुर्गों की मदद से सीमा पार से विस्फोटक, हथगोले और पिस्तौल से युक्त हथियारों की खेप को संभाल रहा था, जिसकी वजह से वो सुरक्षा एजेंसियों के रडार पर आया। पुलिस अधिकारी ने कहा कि मुल्तानी खेपों के इस्तेमाल से पंजाब में कट्टरपंथी गतिविधियों को अंजाम देने की योजना बना रहा था।