'राफेल' से घबराई इमरान सरकार ने विरोध के बावजूद चीन से खरीदा जे-10सी विमान

'राफेल' से घबराई इमरान सरकार ने विरोध के बावजूद चीन से खरीदा जे-10सी विमान

प्रतिरूप फोटो

आपको बता दें कि पाकिस्तान के पास पहले से ही अमेरिका में बने एफ-16 श्रेणी के लड़ाकू विमानों का एक बेड़ा मौजूद है। इसके बाद अब भारतीय वायुसेना के राफेल विमान को टक्कर देने के लिए पाकिस्तान की इमरान खान सरकार ने जे-10सी विमानों की डील की।

इस्लामाबाद। अपने पड़ोसी मुल्क 'हिन्दुस्तान' की गर्जना से घबराने पाकिस्तान ने चीन से जे-10सी लड़ाकू विमानों की एक पूरी स्क्वाड्रन खरीदी है। पाकिस्तान के गृह मंत्री शेख राशिद अहमद ने बताया कि जे-10सी के 25 विमानों का एक पूरा स्क्वाड्रन अगले साल 23 मार्च को पाकिस्तान दिवस समारोह में हिस्सा लेगा। जे-10सी को चीन के सर्वश्रेष्ठ लड़ाकू विमानों में से एक माना जाता है। जे-10सी हर प्रकार के मौसम में उड़ान भरने में सक्षम है। 

आपको बता दें कि पाकिस्तान के पास पहले से ही अमेरिका में बने एफ-16 श्रेणी के लड़ाकू विमानों का एक बेड़ा मौजूद है। इसके बाद अब भारतीय वायुसेना के राफेल विमान को टक्कर देने के लिए पाकिस्तान की इमरान खान सरकार ने जे-10सी विमानों की डील की।

क्या पाकिस्तान ने दबाव में की डील ?

पाकिस्तानी के एक सांसद द्वारा जे-10सी लड़ाकू विमान की क्षमता पर सवाल खड़ा किए जाने के बावजूद इमरान खान सरकार ने यह डील की। ऐसे में माना जा रहा है कि इमरान खान सरकार चीन के दबाव में आकर इस डील को साइन किया है। एफ-16 विमान को मिग-21 ने मार गिराया था बालाकोट एयरस्ट्राक के बाद पाकिस्तानी वायुसेना के लड़ाकू विमान भारतीय वायु क्षेत्र में घुसपैठ की कोशिश कर रहे थे। इस दौरान वायु झड़प में भारतीय वायुसेना के मिग-21 बाइजन लड़ाकू विमान ने पाकिस्तान के एफ-16 लड़ाकू विमान को मार गिराया था। 

रक्षा विशेषज्ञों की माने तो राफेल विमान से घबराए पाकिस्तान ने चीनी विमान जे-10सी की खरीदी की है। चीन का जे-10सी विमान अमेरिका के एफ-16 लड़ाकू विमान की तरह ही है। जिसे चीन ने साल 2006 में अपने बेड़े में शामिल किया था और इसी के दम पर वह खुद को ताकतवर दिखाने की कोशिश करता है।