साइबर सेल और नंदग्राम पुलिस ने संयुक्त कार्रवाई करते हुए देशभर में लोगों के साथ ब्लैकमेलिग करने वाले हनीट्रैप गिरोह का पर्दाफाश किया


गाजियाबाद
नंदग्राम थाने में आयोजित प्रेसवार्ता में एसपी सिटी निपुण अग्रवाल ने बताया कि ये गिरोह पिछले तीन साल में सैकड़ों लोगों को ब्लैकमेल कर 25 करोड़ रुपये से अधिक रकम ऐंठ चुका है। पुलिस ने गिरोह के सरगना दंपती और तीन युवतियों को गिरफ्तार किया है। आरोपितों के पास से पुलिस ने चार मोबाइल फोन, चेकबुक, पासबुक, पासपोर्ट, तीन एटीएम कार्ड, तीन पैनकार्ड, छह वेब कैमरे, छह लैपटाप, चांदी के जेवर, आठ हजार रुपये, 50 महिलाओं के अंडर गारमेंट और भारी मात्रा में आपत्तिजनक उपकरण बरामद किए हैं।  साइबर सेल और नंदग्राम पुलिस ने संयुक्त कार्रवाई करते हुए देशभर में लोगों के साथ ब्लैकमेलिग करने वाले हनीट्रैप गिरोह का पर्दाफाश किया है।

नंदग्राम थाने में आयोजित प्रेसवार्ता में एसपी सिटी निपुण अग्रवाल ने बताया कि पकड़े गए आरोपितों में योगेश गौतम, उसकी पत्नी सपना, निकिता, निधि और प्रिया शामिल हैं। योगेश गिरोह का सरगना है और सभी सामग्री, वीडियो कालिग के लिए स्थान समेत अन्य उपकरण ये ही उपलब्ध कराता है। सपना योगेश की पत्नी है। ये ओएलएक्स पर विज्ञापन डालकर कालिग के लिए युवतियों को बुलाती है और उन्हें ट्रेनिग देती है। निकिता, निधि और प्रिया कालिग करती हैं। गुजरात पुलिस से मिले इनपुट के बाद पुलिस ने राजनगर एक्सटेंशन स्थित आफिसर सिटी सोसाइटी के दो फ्लैटों में छापेमारी की। सभी आरोपित गाजियाबाद के विभिन्न इलाकों के रहने वाले हैं। एसपी सिटी ने बताया कि सभी आरोपी 12वीं पास हैं। गुजरात के अकाउंटेंट से इस गिरोह ने ब्लैकमेलिग कर 80 लाख रुपये ऐंठ लिए थे। अश्लील वीडियो वाली साइट पर आइडी बनाकर फंसाते थे : एसपी सिटी निपुण अग्रवाल ने बताया कि सपना पार्न वेबसाइट पर आइडी बनाकर ग्राहकों को फंसाती थी। अन्य तीनों युवतियां लोगों को वीडियो काल कर स्क्रीन सेवर या फिर दूसरे मोबाइल फोन से उनकी नि:वस्त्र वीडियो बना लेती थी या वीडियो रिकार्ड कर वीडियो एडिट करती थीं। इस काम के लिए सरगना योगेश युवतियों को 25 हजार रुपये मासिक वेतन देता था। उनकी अश्लील वीडियो इंटरनेट पर डालने की धमकी देकर मोटी रकम लेते थे। विदेशी युवक ने सपना को दिया था यह आइडिया : साइबर सेल प्रभारी सुमित कुमार ने बताया कि पांच साल पूर्व सपना अविवाहित थी। डीयू में बीए प्रथम वर्ष की पढ़ाई छोड़ने के बाद वह इंटरनेट पर नौकरी तलाश रही थी। इस दौरान आस्ट्रेलिया में रहने वाले भारतीय मूल के सनी नामक युवक से उसकी फेसबुक पर दोस्ती हो गई। नौकरी के लिए बात होने पर सनी ने सपना से कहा था कि लड़कियों के लिए पैसा कमाना काफी आसान है और उसने सपना को ब्लैकमेलिग के धंधे के टिप्स दिए। इसके बाद सपना ने यह धंधा शुरू किया। सहपाठी से शादी कर शुरू कर दिया था धंधा : नंदग्राम थाना प्रभारी अमित कुमार काकरान ने बताया कि सपना और योगेश की मुलाकात कालेज में हुई। दोस्ती के बाद रिश्ता प्रेम प्रसंग में बदल गया और तीन साल पहले दोनों ने शादी कर ली। सपना नौकरी के बहाने नोएडा जाने लगी और नोएडा में किराए का कमरा लेकर लोगों को वीडियो काल करती और उनकी वीडियो बनाकर उन्हें ब्लैकमेल करती। सपना के पास मोटी रकम जमा होने पर योगेश ने उसकी नौकरी के बारे में पूछा तो सपना ने अपने धंधे के बारे में पति को जानकारी दी। इसके बाद पति-पत्नी ने मिलकर ब्लैकमेलिग का धंधा शुरू कर दिया।