आपकी गाड़ी की माइलेज कम हो गयी है, तो ऐसे बढ़ाएं, जानिए टिप्स

आपकी गाड़ी की माइलेज कम हो गयी है, तो ऐसे बढ़ाएं, जानिए टिप्स

ऐसे में आपको निराश होने की आवश्यकता नहीं है, बल्कि आज हम आपको ऐसे टिप्स बताएंगे जिनकी सहायता से आप आसानी से अपनी गाड़ी की पुरानी माइलेज वापस पा सकते हैं। या यू कहे कि गाड़ी की माइलेज को बढ़ाने में यह टिप्स आपकी मदद कर सकते है।

जब भी किसी गाड़ी के तमाम फीचर्स की बात होती है, तो सबसे महत्वपूर्ण गाड़ी की माइलेज के बारे में जानना हम कभी नहीं भूलते हैं। या यूं कहें कि जब भी गाड़ी की बात चलती है तो सबसे पहले हम यही सवाल करते हैं कि गाड़ी की माइलेज क्या है? 

कई बार ऐसा होता है कि हम अच्छी खासी माइलेज देने वाली कार अपने घर ले आते हैं, लेकिन जब उसे रोड पर लेकर निकलते हैं, तो पता चलता है कि गाड़ी की माइलेज सामान्य गाड़ियों की तरह ही है, बल्कि कई बार तो आपकी गाड़ी का माइलेज बहुत ही कम हो जाता है।

ऐसे में आपको निराश होने की आवश्यकता नहीं है, बल्कि आज हम आपको ऐसे टिप्स बताएंगे जिनकी सहायता से आप आसानी से अपनी गाड़ी की पुरानी माइलेज वापस पा सकते हैं। या यू कहे कि गाड़ी की माइलेज को बढ़ाने में यह टिप्स आपकी मदद कर सकते है।

तो आइए जानते हैं कौन से हैं वह टिप्स 

गाड़ी की टेक केयर

जिस तरीके से अपने शरीर को स्वस्थ बनाए रखने के लिए हमें अपने शरीर की देखभाल करनी पड़ती है, ठीक वैसे ही गाड़ी ठीक ढंग से चले इसके लिए हमें गाड़ी के रखरखाव पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता होती है। इसके लिए समय-समय पर आप गाड़ी की सर्विसिंग अवश्य कराते रहें। इसके साथ ही सर्विस ऑइल, कूलैंट चेन लुब्रिकेशन आदि की भी जांच आप समय पर कराते रहें। 

आपको पता होना चाहिए कि गाड़ी के इंजन और गियर बॉक्स में अगर लुब्रिकेशन कम हो जाता है, तो इसका सीधा असर आपकी गाड़ी के माइलेज पर पड़ता है। ऐसे में गाड़ी की सर्विसिंग के दौरान आप गियर बॉक्स के लुब्रिकेशन और इंजन के लुब्रिकेशन पर विशेष ध्यान दें। जिससे आपके गाड़ी का माइलेज मेंटेन रहेगा।  

टायर की देखभाल

कई लोगों की मानसिकता होती है, कि गाड़ी के टायर यानी कि पहियों में जब हवा कम होगी तभी वह उसमें हवा भराते हैं। आपको बता दें कि अगर आपके गाड़ी में लगे टायर में उचित मात्रा में प्रेशर नहीं रहता है, तो इसका सीधा असर आपकी गाड़ी की माइलेज पर पड़ता है।

वहीं आप अपनी गाड़ी में कितना भार लेकर चल रहे हैं, उसके हिसाब से भी आपके गाड़ी के पहिए में प्रेशर रहना चाहिए। अगर आप ज्यादा लोड लेकर अपनी गाड़ी में चल रहे हैं तो, आप अपनी गाड़ी के हैंड बुक में दिए गए टायर प्रेशर के अनुसार उसमें हवा भर कर चलें। अगर आप ऐसा करते हैं इसमें कोई दो दो राय नहीं है कि आपकी गाड़ी का माइलेज बेहतर ना हो। 

गाड़ी खड़ी करने पर इंजन को बंद करना

कई लोगों के दिमाग में यह मानसिकता बनी हुई है, कि गाड़ी जब स्टार्ट करते हैं तो इंजन ज्यादा फ्यूल खपत करता है। अगर आप यह सोचते हैं तो आप अपनी सोच बदल दें, अगर आपकी गाड़ी खड़ी हुई है और आपका इंजन चल रहा है, ऐसी स्थिति में कार का इंजन लगातार फ्यूल की खपत कर रहा है। 

एक्सपर्ट्स का कहना है कि अगर कभी आप ट्रैफिक में रुके हों और 10 सेकंड से ज्यादा का समय लगने वाला हो तो आपको तुरंत ही अपनी गाड़ी का इंजन बंद कर देना चाहिए। 

जरूरत अनुसार क्लच का इस्तेमाल

बहुत ज्यादा क्लच का इस्तेमाल करने से भी आपके गाड़ी का इंजन ज्यादा फ्यूल खपत करना शुरू कर देता है। ऐसे में बेवजह क्लच का इस्तेमाल से आपको बचना चाहिए, तो वहीं बार-बार क्लच को दबाने से आपकी गाड़ी का क्लच प्लेट भी खराब हो सकता है। 

सही गियर का इस्तेमाल

कई बार लोग हाई स्पीड में गाड़ी चलाते हैं, लेकिन उसके हिसाब से गियर चेंज करना भूल जाते हैं। इसका सीधा असर गाड़ी के इंजन पर पड़ता है और फ्यूल की खपत बढ़ने लगती है। ऐसे में गाड़ी के इंजन के अनुसार आपको गियर का सही इस्तेमाल करना पता होना चाहिए। मान लीजिए आपकी गाड़ी 150cc वाली इंजन की है, तो ऐसे में आप 50 से 55 की स्पीड में गाड़ी चला रहे हैं तो आप तीन नंबर गियर में भी गाड़ी चला सकते हैं। 

स्मूथ ड्राइविंग करें 

अगर आप गाड़ी चलाने के दौरान बार-बार स्पीड कम ज्यादा कर रहे हैं, तो इससे भी आपकी गाड़ी में फ्यूल की खपत बढ़ सकती है। इससे बेहतर यह होगा कि आप एक निश्चित स्पीड में गाड़ी को चलाएं। ना तो गाड़ी को तेज स्पीड में करें और ना ही बार-बार गाड़ी की स्पीड को रोकें। 

अगर आप ऊपर दिए गए इन बातों को ध्यान में रखते हैं, तो आपका इंजन बेहतरीन माइलेज देगा और आप महंगाई के इस दौर में अपने सफर का भरपूर आनंद ले सकेंगे।