क्रिकेट: राकेश मिश्रा खुद पर लगे आरोपों का जवाब देने के लिए मीडिया से रूबरू हुए

 


गाजियाबाद : शुक्रवार को गाजियाबाद क्रिकेट एसोसिएशन के निदेशक राकेश मिश्रा खुद पर लगे आरोपों का जवाब देने के लिए मीडिया से रूबरू हुए। उन्होंने बृहस्पतिवार को नवगठित जीजेडबी क्रिकेट एसोसिएशन की ओर से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम भूमि खरीद समेत कई मामलों में अनियमितताओं के आरोपों को निराधार बताया। साथ ही प्रेसवार्ता करने वालों पर मानहानि का दावा करने की बात की।

राकेश मिश्रा ने कहा स्टेडियम भूमि खरीद मामले में कमीशनखोरी से उनका और उनके परिवार, रिश्तेदार या जानकार का कोई संबंध नहीं है। स्टेडियम की भूमि गाजियाबाद विकास प्राधिकरण (जीडीए) के जरिये यूपीसीए ने खरीदी है। इस मामले में यूपीसीए ने जीडीए को जमीन खरीद का पैसा दिया है। स्टेडियम की भूमि से विद्युत विभाग ने नियम विरुद्ध हाइटेंशन लाइन डाल दी। इसके लिए शासन स्तर से विद्युत लाइन हटाने के लिए कहा गया है। वहीं, जीसीए की कार्यशैली और अनियमितताओं के जवाब में कहा कि यूपीसीए से सम्बद्ध जीसीए ने गाजियाबाद से कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी दिए हैं। आरपीएल क्रिकेट ग्राउंड पर आयोजित होने वाले ट्रायल के संबंध में उन्होंने कहा कि इसके लिए यूपीसीए से अनुमति ली गई है।प्रस्तावित अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम के लिए जमीन की खरीद-फरोख्त में जीडीए की कोई भूमिका नहीं है। जमीन सीधे यूपीसीए ने किसानों से आपसी समझौते के तहत खरीदी थी।

- दुर्गेश सिंह, जीडीए तहसीलदार

क्रिकेट की बेहतरी के लिए 30 साल से लगा हूं। पद पर आने की कोई लालसा नहीं है। जमीन जीडीए ने ली या यूपीसीए ने ली। उस समय 3200 रुपये वर्ग मीटर की जगह 5500 रुपये वर्ग मीटर में क्यों खरीदी गई। इसकी उच्च स्तरीय जांच जरूरी है।

प्रवीन त्यागी, निदेशक जीजेडबी क्रिकेट एसोसिएशन